Sunday, May 25, 2008

अवसर समान कहाँ हैं ?



1 comment:

  1. निश्चय ही अवसर की समानता हमारे समाज में स्त्री को अभी तक प्राप नहीं है. बल्कि यूँ कहें कि हमारे देश में तो जीने-जन्मने तक की समानता प्राप्त नहीं है. कारण बहुत सारे हो सकते हैं-मानसिकता से लेकर आर्थिक स्थिति तक.......'बियोंड द सेकंड सेक्स' एक सामजिक आन्दोलन बनें नए और उत्साही लोग जुड़ें तो बात बने...शिरोचित्र और साज-सज्जा सुविचारित और सुरुचि पूर्ण है.

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।अग्रिम आभार जैसे शब्द कहकर भी आपकी सदाशयता का मूल्यांकन नहीं कर सकती।आपकी इन प्रतिक्रियाओं की सार्थकता बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि संयतभाषा व शालीनता को न छोड़ें.

Related Posts with Thumbnails