Saturday, June 21, 2008

लड़कियों में अच्छी नहीं अतिचंचलता

शोध बताते हैं कि अति चंचल लड़कियों को वयस्क होने पर ज़्यादा गंभीर समस्याएं पेश आ सकती हैं.
21 साल तक की 800 लड़कियों पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि लड़कियों में अति चंचलता वयस्क होने पर उनकी नौकरी की ख़राब संभावनाएं, ग़लत संबंध और कम उम्र के गर्भधारण का कारण बन सकती है.
इससे पहले किए गया एक शोध बचपन में लड़कों की अति चंचलता पर केंद्रित था जिसमें पाया गया था कि लड़कों में अति चंचलता को ज़्यादा आसानी से पहचाना और इलाज किया जा सकता है.
कना़डा और इंग्लैंड के यह शोध 'जनरल साइकाइट्री' पत्रिका में छपे हैं।

लड़कों के मुक़ाबले लड़कियों में अति चंचलता हालांकि बहुत कम पाई जाती है लेकिन जिन लड़कियों में यह पाई जाती है, उनमें बाद में अनेक समस्याएं पैदा होने की आशंका होती है

शोधार्थियों का मानना है कि ऐसी अतिचंचल लड़कियों के अभिभावकों को स्कूलों में उनके बेहतर प्रदर्शन के लिए शुरूआत से ही उनके सक्रियता स्तर को पहचान कर उन्हें मदद देनी चाहिए.
छह से 21 साल तक की लड़कियों पर केंद्रित इस अध्ययन में ऊपर-नीचे कूदने, आराम से एकटक न बैठने और बेचैनी के लक्षणों को जाँचा।

आक्रामकता
शोधार्थियों ने इनमें शारीरिक आक्रामक व्यवहार के स्तर को भी परखा जैसे लड़ना-झगड़ना, मारपीट करना, उठापटक करना, काटना इत्यादि.
हर दस में से एक लड़की में अति चंचलता का उच्च स्तर पाया गया जबकि दूसरी दस लड़कियों में अति चंचलता के उच्च स्तर के साथ शारीरिक रूप से आक्रामक व्यवहार भी पाया गया.
इस अध्ययन के अनुसार सबसे ज़्यादा चंचल या आक्रामक लड़कियों को दोगुने से भी ज़्यादा धूम्रपान की लत का शिकार होने और अनुचित संबंधों में लिप्त होने के आसार दोगुने से भी ज़्यादा हो सकते हैं और स्कूल में इनका प्रदर्शन चार गुना ख़राब हो सकता है.
जबकि अति चंचल और आक्रामक दोनों व्यवहारों वाली लड़कियों में बाद में कम उम्र में गर्भधारण की समस्या के अलावा अपने साथी के लिए शारीरिक और मानसिक आक्रामकता भी देखी गई.
स्कूल में अच्छे प्रदर्शन के लिए शुरूआत में ही लड़कियों के सक्रियता स्तर को पहचान कर मदद देनी चाहिए
एक चौथाई अति चंचल लड़कियों में बाद में कोई समस्या नहीं पाई गई.
यूनिवर्सिटी कॉलेज, लंदन के शोधार्थी और इस अध्ययन के प्रमुख डॉ नेथली फ़ोंटेन ने कहा, "अब से पहले लड़कियों में अति चंचलता पर बहुत कम शोध हुए हैं।"

स्कूल में प्रदर्शन
उन्होंने कहा, "लड़कों के मुक़ाबले लड़कियों में अति चंचलता हालांकि बहुत कम पाई जाती है लेकिन जिन लड़कियों में यह पाई जाती है, उनमें बाद में अनेक समस्याएं पैदा होने की आशंका होती है."
उन्होंने कहा कि यह बात नई नहीं है क्योंकि बहुत सी समस्याएं तो स्कूल में ख़राब प्रदर्शन से ही पैदा होती हैं.
उनके अनुसार, "इस क्षेत्र में और ज़्यादा शोध की ज़रूरत है ताकि ऐसी समस्याओं के बढ़ने के कारणों और बचाव के उपायों को समझा जा सके."
साउथ-वेस्ट लंदन में बाल और किशोर मनोविज्ञान के सलाहकार डॉ मोरिस वी कहते हैं कि ऐसे ही परिणाम अति चंचल लड़कों में भी देखे गए हैं.
उनके अनुसार, "अति चंचलता अधिकतर लड़कों में ही पाई जाती है और हम इसके कारणों के बारे में नहीं जानते."
उन्होंने कहा, "लड़कियों में ध्यान भंग होने के लक्षण ज़्यादा पाए जाते हैं इसलिए उन्हें ऐसे ही छोड़ दिया जाता है क्योंकि वह बहुत परेशानियाँ पैदा नहीं करतीं"।

"लड़कों के मुक़ाबले लड़कियों में अति चंचलता हालांकि बहुत कम पाई जाती है लेकिन जिन लड़कियों में यह पाई जाती है, उनमें बाद में अनेक समस्याएं पैदा होने की आशंका होती है".
-
डॉक्टर नेथली फ़ोंटेन



बी.बी.सी.से साभार

3 comments:

  1. अति सर्वथा वर्जयेत्।
    इसी लिए हमारे बचपन में अतिवादी लक्षणों को तुरंत ही पहचान लिया जाता था और बार-बार टोक कर उसे ठीक करने के प्रयास किये जाते थे और उस के परिणाम भी सही निकलते थे।

    ReplyDelete
  2. कविता जी
    आपने बहुत बढि़या विषय लिया है इसमें संदेह नहीं है। वैसे देखा जाये तो यह ऐसा विषय है जिसमें शोध की आवश्यकता नहीं है। आप अपने आसपास ऐसी घटनाओं का उदाहरण देख कर लिख सकतीं हैं। अभी एक लड़की जिसे इंटरनेट पर एक पाकिस्तानी लड़के से विवाह किया। अपने लोगों को समझाने के बावजूद वहां गयी। वहां उसके पति का देहावसान हो गया और वह गर्भवती थी इसी कारण उसके ससुराल वाले उसे भारत नहीं आने देना चाहते थे। आखिर उसे उस भारत के दूतावास की मदद लेनी पड़ी जिसे कथित इश्क की खातिर वह अपने अति चंचलता के कारण छोड़ गयी थी। मनुष्य के स्वभाव पर शोधों की जरूरत नहीं होती। आप अपने आसपास घटनायें देखकर उन पर चिंतन और मनन कर शोध कर सकतीं हैं। आपने सुना होगा लड़के की इज्जत पीतल के लोटे की तरह है जो एक बार खराब होने पर साफ किया जा सकता है पर लड़की की इज्जत माटी के बर्तन की तरह हैं। हो सकता है कि मैं लिखने में गलती कर गया हूं पर आप एक लेखिका और कवियत्री हैं और इस विषय पर आगे लिखकर समाज का पथ प्रदर्शन करतीं रहें तो अच्छा रहेगा। आप लेख प्रशंसनीय है।
    दीपक भारतदीप

    ReplyDelete
  3. दीपक जी,आप के उत्साहवर्धक शब्दों के प्रति धन्यवाद.
    अति चंचलता से अभिप्राय `हाईपर एक्टिव' से है, यह शारीरिक लक्षण है. रही प्रेम करने की बात तो ऋषि कण्व तक ने शकुन्तला को कभी दोष नहीं दिया की तुमने दुष्यंत जैसे लम्पट से प्रेम क्यों किया. प्रेम करना मनुष्य की सहज वृत्ति है,जब तक की वह एकनिष्ठ हो.दोष यदि देना है तो छलने वालों को दिया जाना चाहिए, न की छले जाने वाले को.
    अति बेचैनी एक मानसिक व्याधि है जिसके लक्षणों के बारे में यह शोध बताता है.

    आप ने गंभीरता से देखा व टिप्पणी की तदर्थ आभारी हूँ.

    द्विवेदी जी, आप के प्रति भी आभारी हूँ. आप की अति सर्वत्र वर्जयेत् की बात से सहमत हूँ.

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।अग्रिम आभार जैसे शब्द कहकर भी आपकी सदाशयता का मूल्यांकन नहीं कर सकती।आपकी इन प्रतिक्रियाओं की सार्थकता बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि संयतभाषा व शालीनता को न छोड़ें.

Related Posts with Thumbnails