Thursday, February 5, 2009

जब से तुम्हें देखा है .(विवाह, बलात्कार और...)..



जब से तुम्हें देखा है





एक समाचार (ए.पी.) - इराक में महिलाओं को आत्मघाती हमलावर बनाने के पहले उनके साथ बलात्कार कराया जाता था। सामाजिक प्रतिष्ठा के तार-तार हो जाने और अपनी बदनामी के डर से महिला सुसाइड बॉम्बिंग के लिए तैयार हो जाती थी।
अल कायदा के आतंकवादी पहले किसी महिला से विवाह कर लेते थे और बाद में उस महिला के साथ दूसरे लोग बलात्कार करते थे। यह सिलसिला तब तकचलता जबतक कि महिला आत्मघाती मिशन के लिए तैयार नहीं हो जाती थी।
मंगलवार को ही एक 51 वर्षीय महिला आतंकवादी ने स्वीकार किया कि उसने ऐसे ही तरीकों से 80 से ज्यादा युवा महिलाओं को सुसाइड बॉम्बर्स बनाया था। अपने आप को 'धर्म में विश्वास करने वालों की माँ' कहने वाली इस महिला 'समीरा जासिम' ने कमजोर और परेशानियों से घिरी महिलाओं की स्थिति का फायदा उठाया।
पुलिस को सूचना मिलने के बाद पूछताछ के बाद समीरा ने माना कि उसने 28 सफल आत्मघाती हमलों को अंजाम दिया था।



इसी पर कुछ उद्गार -


जब से तुम्हें देखा है


जब से तुम्हें देखा है अखबार के पन्ने पर ,
मन का चैन उड़ गया है, समीरा !
पल-पल अपने ज़मीर को मारती हुई
कैसे जीती हो इतनी कालिमा ओढ़े !
एक हथियार बन उनके हाथों का
करती हुई अनगिनती समीराओं का शिकार !
वे रौंद देते है उन्हें कि तुम समझा सको कि अब दो ही रास्ते हैं
उनकी ज़लालत भरी ज़िन्दगी के लिये,
जमीन में आधी गाड़ी जा कर पत्थरों की बौछार
या
अल्लाह के नाम पर कुर्बान हो जाओ -
जीवित बम बन
कितनों की मौत बन चिथड़े उड़वा दो अपने !
इन औरतों के लिये ,
चैन नहीं कहीं।
मरने के बाद भी
जहन्नुम का इन्ज़ाम पक्का !
बहुत सचेत हैं वे दरिन्दे कि
कहीं कोई कँवारी अल्लाह को प्यारी हो
जन्नत न पा जाये !
छोड़ देते हैं कोई मुस्टंडा उसके ऊपर !
एक या दस, उन्हें क्या फ़र्क पड़ता है
झेलना तो तो उसे है भयावह मौत !
कैसे छल पाती हो समीरा,
अपने आप को ?
कैसी ज़िन्दगी है तुम्हारी !
अल्लाह के नाम पर,
कैसी दरिन्दगी है !
औरत ?
मर्दों का एक खिलौना,
बचपन से ही काट-छाँट,
अपने सुख और अहम् की तुष्टि के लिये !
जी भर खेला और फेंक दिया !
तुम भी तो एक औरत हो !
तुम्हें कुछ नहीं लगता !
सोचा है कभी
कि उनके जन्नत में तुम्हारी कहीं गुज़र नहीं !
कैसे जीती हो तुम ,मेरा तो चैन उड़ गया है समीरा !
जब से तुम्हें देखा है !
- प्रतिभा सक्सेना


2 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना लिखा है आपने......समीरा के प्रति अपने दुख को आपने स्‍वाभाविक तौर पर अभिव्‍यक्ति दे दी है।

    ReplyDelete
  2. Painful.
    But, remember, there is always a choice.

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।अग्रिम आभार जैसे शब्द कहकर भी आपकी सदाशयता का मूल्यांकन नहीं कर सकती।आपकी इन प्रतिक्रियाओं की सार्थकता बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि संयतभाषा व शालीनता को न छोड़ें.

Related Posts with Thumbnails