Sunday, May 9, 2010

रत्‍नावली का सच

4 comments


रत्नावली का सच 


               मैंने चाहा था तुमको प्रियतम!
                मन से, तन से प्रतिपल,
               हर क्षण की थी कामना
                तुम्हे पाने की,
                तुम्ही में खो जाने की,
                लेकिन-
                तुम जिस रात आए,
                मेरे प्रेम-पाश में बंधने,
                मुझे उपकृत करने-
                उस रात,
                मैं मायके में थी न?
                बेटी की मर्यादा
                मेरे पैरों को रोक रही थी
                जंजीर बन कर!

                      उस रात मेरे भीतर बैठी-
                      मर्यादित नारी जाग उठी थी
                      और उस नारी ने कह दिया था--
                      "लाज न आवत आपको"
                       और बस,
                       तुम लौट गए थे हत 'अहम्' लेकर!
                       मैं-
                       मर्यादा में जकड़ी, तड़फती रही!
                       सच कहूँ मेरे प्रिय!
                       उस रात जीत गई थी नारी
                       और हार गई थी तुम्हारी पत्नी-
                       रत्नावली बेचारी!
                      संसार ने पाया महाकवि तुलसी-
                       रत्नावली रह गई युगों से झुलसी-
                       तन और मन की आग से!
                       यही है रत्नावली का सच,
                       जिसे तुम भी नहीं जान सके मेरे प्रिय!
                        --------------------------------


                              डॉ.योगेन्द्र नाथ शर्मा 'अरुण' 
        
Related Posts with Thumbnails