Wednesday, August 20, 2008

`एकालाप' : गुड़िया-गाय-गुलाम

`एकालाप'
(६)
गुड़िया-गाय-गुलाम
परसों तुमने मुझे
चीखने वाली गुड़िया समझकर
जमीन पर पटक दिया
और पैरों से रौंद डाला


पर मैंने कोई शिकायत नहीं की।
0


कल तुमने मुझे
अपने खूंटे की गाय समझकर
मेरे पैरों में रस्सी बाँध दी
और मेरे थनों को दुह डाला


पर मैंने कोई शिकायत नहीं की.


0


आज तुमने मुझे
अपने हुक्म का गुलाम समझ कर
गरम सलाख से मेरी जीभ दाग दी है



और अब भी चाहते हो
मैं कोई शिकायत न करूँ।


0



नहीं!



मैं गुड़िया नहीं, मैं गाय नहीं, मैं गुलाम नहीं!!
0

-ऋषभ देव शर्मा












चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: स्त्रीविमर्श, एकालाप, Women, कविता,

1 comment:

आपकी प्रतिक्रियाएँ मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं।अग्रिम आभार जैसे शब्द कहकर भी आपकी सदाशयता का मूल्यांकन नहीं कर सकती।आपकी इन प्रतिक्रियाओं की सार्थकता बनी रहे इसके लिए आवश्यक है कि संयतभाषा व शालीनता को न छोड़ें.

Related Posts with Thumbnails